Category Archives: आत्म सुधार

सकारात्मक सोच:–

पुराने समय की बात है, एक गाँव में दो किसान रहते थे। दोनों ही बहुत गरीब थे, दोनों के पास थोड़ी थोड़ी ज़मीन थी, दोनों उसमें ही मेहनत करके अपना और अपने परिवार का गुजारा चलाते थे। अकस्मात कुछ समय … Continue reading

Posted in आत्म सुधार | Leave a comment

आत्म विश्वास बढ़ाने के लिए स्वयं को करें प्यार |

आत्म विश्वास बढ़ाने के लिए स्वयं को करें प्यार | हम जितना खुद पर विश्वास करते हैं उतना ही दूसरों पर इसलिए जीवन के हर क्षेत्र में सफलता के लिए आत्मविश्वास बेहद जरुरी है | आइए जानते हैं कैसे असुरक्षा … Continue reading

Posted in आत्म सुधार | 1 Comment

जीने की राह

क्या करें क्या नही करें  | 1). भूल जाएँ | अपनी नोकियों को दुसरे की गलतियों को अतीत के कड़वे सत्य को | 2) छोड़ दें | दुसरे को नीचा दिखाना | दुसरे की सफलता से जलना | दुसरे की … Continue reading

Posted in आत्म सुधार | Leave a comment

इन्हें अपनाओ और सदा सुख पाओ

STORIES (www.hindishabd.com) WHICH CAN CHANGE YOUR LIFE   समय को सफल करना बहुत बड़ी शक्ति है | दृढ संकल्प करो कि मुझे उदास नहीं होना है |   मांगो नहीं , मेहनत करके पाओ |   अहंकार मनुष्यता का सबसे … Continue reading

Posted in आत्म सुधार | Leave a comment

किन चार परिस्थितियों में व्यक्ति को नींद नहीं आती ?

  स्त्री हो या पुरुष दोनों के जीवन में ये चार बातें होती हैं | जब उनकी नींद उड़ जाती है और मन अशांत हो जाती है ये चार बातें कौन कौन सी है आईये  इन्हें जानते हैं | पहली … Continue reading

Posted in आत्म सुधार | Leave a comment

स्वामी विवेकानन्द के विचार

एक विचार ले लो | उसी के अपने जीवन को बनाओ ; उसी को सोचो , उसी का स्वप्न देखो और उसी पर अवलम्बित रहो | अपने मस्तिष्क , मांसपेशियों, शरीर के प्रत्येक भाग को उसी विचार से ओतप्रोत होने … Continue reading

Posted in आत्म सुधार | Leave a comment

क्रोध के दो मिनट :

  एक युवक ने विवाह के दो साल बाद परदेश जाकर व्यापार करने की इच्छा पिता से कही- पिता ने स्वीकृति दे दी । वह अपनी गर्भवती पत्नी को माँ-बाप के जिम्मे सौंपकर व्यापार करने को चला गया।   परदेश … Continue reading

Posted in आत्म सुधार | Leave a comment

अहंकार एवं सफलता

अहंकार एवं सफलता अहंकार मनुष्य की प्रगति में सबसे बड़ी बुराई है यह एक ऐसा मानसिक रोग है | जो मनुष्य को उसकी वास्तविक ज्ञान से अधिक ज्ञानी समझने की भूल करने को प्रेरित करता है | अहंकारी व्यक्ति स्वयं … Continue reading

Posted in आत्म सुधार | 1 Comment

एक विजेता के लिए यह समझना अनिवार्य है |

एक विजेता के लिए यह समझना अनिवार्य है | यदि आप विजय होना चाहते हैं , सफलता पाना चाहते हैं तो यह समझ लें कि विजय – पथ संघर्ष पूर्ण है | सफलता और विजय प्राप्ति की यह राह आसान … Continue reading

Posted in आत्म सुधार | Leave a comment

आखिर हम क्यों असफल होते हैं ?

आखिर हम क्यों असफल होते हैं ? इस प्रश्न का उत्तर अलग अलग सोचो के व्यक्ति अलग – अलग प्रकार से देते हैं | भाग्यवादी अपनी असफलता के लिए भाग्यहीनता को जिम्मेवार बताते हैं | कामजोर संकल्प का व्यक्ति विभिन्न … Continue reading

Posted in आत्म सुधार | Leave a comment