Category Archives: आत्मकथा

बुद्ध जयन्ती कहां, कैसे मनाई जाती है?

बुद्ध जयंती को लेकर देशभर में उल्‍लास का माहौल देखा जा रहा है. भारत के अलावा कई अन्‍य देशों में भी बुद्ध के विचारों में आस्‍था रखने वाले लोग काफी उत्‍साहित हैं. बुद्ध जयंती से जुड़े कुछ महत्‍वपूर्ण तथ्‍य: -बुद्ध … Continue reading

Posted in आत्मकथा | Leave a comment

budhhaPurnima राजा का बेटा बना बौद्ध धर्म का संस्थापक, जानिये इस धर्म का इतिहास

बौद्ध धर्म भारत की श्रमण परम्परा से निकला धर्म और दर्शन है. इसके प्रस्थापक महात्मा बुद्ध शाक्यमुनि (गौतम बुद्ध) थे. वे 563 ईसा पूर्व से 483 ईसा पूर्व तक रहे. ईसाई और इस्लाम धर्म से पहले बौद्ध धर्म की उत्पत्ति … Continue reading

Posted in आत्मकथा | Leave a comment

सच्ची लगन

  जूनुन जब हद से गुजरता है तो जन्म होता है रामानुज जैसे इन्सान का | उन्हों ने कभी हार नही मानी और दिन रात मेहनत करके गणित के नये नये फार्मूले निकाले | उनके गणित के सूत्र इसने जटिल … Continue reading

Posted in आत्मकथा, प्रेरणादायक | Leave a comment

सबसे पीछे रहने वाले एक बालक-ऐल्बर्ट आइंस्टाइन

सबसे पीछे रहने वाले एक बालक-ऐल्बर्ट आइंस्टाइन   सबसे पीछे रहने वाले एक बालक ने अपने गुरु से पूछा ‘श्रीमान मैं अपनी बुद्धी का विकास कैसे कर सकता हूँ?’ अध्यापक ने कहा – अभ्यास ही सफलता का मूलमंत्र है। उस … Continue reading

Posted in आत्मकथा | Leave a comment

बुलंद हौसले वाले स्टीव जॉब्स

ग्लोबल आईटी वर्ल्ड में स्टीव की पहचान सनकी, जिद्दी, बड़बोला और अहंकारी लीजेंड-टेक्नोप्रिनर की है, लेकिन स्टीव ने जैसे अकेले अपनी मंजिल तलाश की और उसकी राहों को तराशा, वह बेमिसाल है.. कम्प्यूटर्स के संस्थापक स्टीव जॉब्स को उनकी कुंआरी … Continue reading

Posted in आत्मकथा | Leave a comment

स्टीव जॉब्स (मेरी तीसरी कहानी है मौत के बारे में)

मेरी तीसरी कहानी है मौत के बारे में जब मैं 17 वर्ष का था, मैंने कहीं पढ़ा था “यदि आप हर दिन को जिन्दगी के अंतिम दिन की तरह जीते हैं, किसी दिन आप जरूर सच होंगे”. इसने मेरे मन … Continue reading

Posted in आत्मकथा | Leave a comment

स्टीव जॉब्स (मेरी दूसरी कहानी है प्यार और नुकसान के बारे में)

मेरी दूसरी कहानी है प्यार और नुकसान के बारे में मैं भाग्यशाली था. मैंने जिन्दगी की शुरूआत में जान लिया था कि मुझे किससे प्यार है. वाझ और मैंने अपने मातापिता के गैरेज में “एप्प्ल” की शुरूआत की, जब मैं … Continue reading

Posted in आत्मकथा | Leave a comment

स्टीव जॉब्स (पहली कहानी है बिन्दुओं को मिलाने के बारे में.)

पहली कहानी है बिन्दुओं को मिलाने के बारे में. मैंने रीड कालेज पहले 6 महीने में ही छोड़ दिया था, लेकिन मैं वहां पर अगले 18 महीने और रहा. उसके बाद मैंने कालेज सही अर्थों में छोड़ दिया. मैंने कालेज … Continue reading

Posted in आत्मकथा | Leave a comment

भूखे रहो, मूर्ख रहो – स्टीव जॉब्स

भूखे रहो, मूर्ख रहो – स्टीव जॉब्स ये हैं कंप्यूटर गुरू स्टीव जॉब्स. एप्पल कंप्यूटर और पिक्सार एनिमेशन स्टूडियोज़ के प्रमुख. मौक़ा है स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह का. दिन रविवार. तारीख़ 12 जून 2005. मुख्य वक्ता स्टीव जॉब्स ने … Continue reading

Posted in आत्मकथा | Leave a comment

स्मार्टेस्ट सीईओ का स्मार्ट मंत्र- भूखे रहो, मूर्ख रहो)

स्मार्टेस्ट सीईओ का स्मार्ट मंत्र- भूखे रहो, मूर्ख रहो जानी मानी बिजनेस मैगजीन फॉरच्यून ने हाल में आईटी कंपनी ऐपल के सीईओ स्टीव जॉब्स को टेक्नॉलजी फील्ड के 50 स्मार्ट पीपुल में नंबर एक खिताब से नवाजा है। जॉब्स की … Continue reading

Posted in आत्मकथा | Leave a comment