Menu

Month: December 2016

सदैव बुजुर्गों का सम्मान करें!!!!

बहुत अच्छी सीख है, कृपया पढ़ियेगा जरूर…     एक पिता ने अपने पुत्र की बहुत अच्छी तरह से परवरिश

बेटी कभी भी अपने माँ बाप के घर से नहीं जाती

एक पिता ने अपनी बेटी की अच्छे परिवार में सगाई करवाई, लड़का बड़े अच्छे घर से था सुशील था तो

माँ का त्याग !

एक औरत थी, जो अंधी थी | जिसके कारण उसके बेटे को स्कुल में बच्चे चिढाते थे , कि अंधा

अहंकार एवं सफलता

अहंकार एवं सफलता अहंकार मनुष्य की प्रगति में सबसे बड़ी बुराई है यह एक ऐसा मानसिक रोग है | जो

एक विजेता के लिए यह समझना अनिवार्य है |

एक विजेता के लिए यह समझना अनिवार्य है | यदि आप विजय होना चाहते हैं , सफलता पाना चाहते हैं

आखिर हम क्यों असफल होते हैं ?

आखिर हम क्यों असफल होते हैं ? इस प्रश्न का उत्तर अलग अलग सोचो के व्यक्ति अलग – अलग प्रकार

सफलता के राह

सफलता के राह सफलता किसे अभीष्ट नहीं ? हर व्यक्ती सफल होना चाहता है | कोई भी असफल नहीं होना