Monthly Archives: October 2016

अवसरों को पहचान

एक समय की बात है किसी गाँव  में  एक  साधु रहता  था, वह  भगवान का बहुत बड़ा भक्त था और निरंतर एक पेड़ के नीचे  बैठ  कर  तपस्या  किया करता  था |  उसका  भागवान  पर  अटूट   विश्वास   था और गाँव वाले भी … Continue reading

Posted in आत्म सुधार | Leave a comment

बुरी आदत |

एक अमीर आदमी अपने बेटे की किसी बुरी आदत से बहुत परेशान था. वह जब भी बेटे से आदत छोड़ने को कहते तो एक ही जवाब मिलता , ” अभी मैं इतना छोटा हूँ..धीरे-धीरे ये आदत छोड़ दूंगा !” पर वह कभी … Continue reading

Posted in आत्म सुधार | Leave a comment

दर्जी की सीख

एक दिन स्कूल में छुट्टी की घोषणा होने के कारण, एक दर्जी का बेटा, अपने पापा की दुकानपर चला गया ।वहाँ जाकर वह बड़े ध्यान से अपने पापा को काम करते हुए देखने लगा । उसने देखा कि उसके पापा … Continue reading

Posted in आत्म सुधार | Leave a comment

लक्ष्मीजी कहाँ रहती हैं ?

एक बूढे सेठ थे । वे खानदानी रईस थे, धन-ऐश्वर्य प्रचुर मात्रा में था परंतु लक्ष्मीजी का तो है चंचल स्वभाव । आज यहाँ तो कल वहाँ!! सेठ ने एक रात को स्वप्न में देखा कि एक स्त्री उनके घर … Continue reading

Posted in प्रेरणादायक | Leave a comment

बीरबल की लेटने की आदत

बीरबल की लेटने की आदत बीरबल दोपहर को खाने के बाद कुछ देर लेटकर आराम करता था | यह उसकी रोज की आदत थी | और इस बात को राजा अकबर भी अच्छी तरह से जानते थे | एक बार … Continue reading

Posted in हिंदी कहानियां | 1 Comment

अकबर का सवाल

दरवार में एक दिन बीरबल उपस्थित नहीं था | इसलिए कई दरवारी बीरबल की बुड़ाई करने लगे | उन में चार दरबारी जो बीरबल के प्रति कुछ ज्यादा ही जहर उगल रहे थे | उन से बादशाह अकबर ने एक … Continue reading

Posted in हिंदी कहानियां | Leave a comment

मुंह पीछे बुराई

बीरवल से जलने वाले बहुत थे | एक बार किसी व्यक्ती ने चौराहे पर एक काजग चिपका दिया | उस में शुरू से अंत तक बीरबल को कोसा गया था | उस पर हर आने जाने वाले की नजर पड़ती … Continue reading

Posted in हिंदी कहानियां | 1 Comment

मध्य कालीन भारत

प्रतिहार इस वंश का उदय राजस्थान में हुआ था | इसके वंशज स्वंय को लक्ष्मण का वंशज बतलाते थे | गुरुजड़ वंश प्रतिहार लोगों की शाखा गुरुजड़ वंश थी | गुरुजड़ वंश का संस्थापक नाग भट्ट था | जिसने मालवा … Continue reading

Posted in हिंदी साहित्य | Leave a comment

मध्य कालीन भारत

मध्य कालीन भारत पाल वंश   गोपाल पाल वंश का पहला राजा था | इसकी मुत्यु के बाद 770 ई. में उसका पुत्र धरमपाल गद्दी पर बैठा राष्ट्रकूट  एवं प्रतिहारों की आपसी लराई का लाभ उठाकर उसके कनौज को जीत … Continue reading

Posted in हिंदी साहित्य | Leave a comment

मिलन अकबर बीरबल का

एक बार अकबर बादसाह युद्ध के बाद दिल्ली की तरफ वापस आ रहे थे | रास्ते में उन्हें इलाहबाद में गंगा किनारे पर रुके | अकबर ने अपने एक दूत को वहां के राजा के पास भेजा साथ में अकबर … Continue reading

Posted in हिंदी कहानियां | Leave a comment