Menu

Month: July 2016

बहुत से लोग… हीरे जैसे होते है !

एक राजमहल में कामवाली और उसका बेटा काम करते थे. एक दिन राजमहल में कामवाली के बेटे को हीरा मिलता

बन्दर और टोपी

एक व्यापरी गाँव में घूम –घूम कर टोपी बेंचा करता था | एक दिन कराके की धुप में टोपीवाला प्यास

वर्तमान परिवेश और स्त्री

“नारी तुम केवल श्रद्धा हो” “विश्वास नग पग ताल में पियूष स्रोत – सी बहा करो जीवन के सुन्दर समतल

सच्चा प्रेम

एक बार की बात है | नारद जी भगवान श्रीकृष्ण से बोले, प्रभु आपको तीन रानी तथा इतनी पटरानियाँ है,

विवाह |

आज विक्रम काफी व्यस्त है | आज रति का विवाह है | जिसके प्रबंधन की सारी जिम्मेदारी विक्रम पर है|

सास और बहू |

सुनंदा अपने पिता की इकलौती बेटी थी, नाम के मुताबिक देखने में भी बहुत सुन्दर थी | जब वह अपने

मिट्टी और कुम्हार

मिट्टी ने कुम्हार से कहा – “मुझे ऐसा पात्र बना दीजिए” जो अपने में शीतल जल भरकर  ‘प्रियतम’ के होठो

गलत फहमी |

  एक लड़का को कॉलेज जाते हुए यह महसूस हुआ की उसे किसी प्यार हो गया हैं| इस क्रम में

बकरी का बच्चा |

किसी जंगल में एक बकरी अपने दो छोटे – छोटे बच्चो के साथ रहती थी. एक दिन बकरी ने अपने

प्यारी सुलो |

सुलेखा को अपनी सौतेली माँ के ताने बहुत झेलने परते थे| किन्तु वह कभी घबराती नहीं थी। सुलेखा कॉलेज जाने से