Menu

योग्य चुनाव

 

राजा मंगलसेन के मंत्री जगतराम बूढ़े हो चुके थे | उन्होंने स्वयं को सेवामुक्त करने को विनती की |

राजा मंगलसेन ने कहा ,

“आप पहले अपने जैसे सेवाभावी , परोपकारी और ईमानदार मंत्री का चुनाव कर लीजिए , तभी आप को सेवा मुक्त किया जा सकता है |”

जगतराम ने आदेश दिया , राज्य में ढिंढोड़ा पिटवा दो कि राज्य के नए मंत्री का चुनाव अगले रविवार को किया जाएगा |

“इस पद के इच्छुक ग्यारह बजे राजदरबार में पहुंचे |”

हरकारे गाँव में ढिंढोड़ा पीटने लगे |

चयन वाले दिन राजदरबार की ओर जाने वाले मार्ग पर सुबह से ही नवयुवकों की भीड़ लग गई थी |

सौकरो की संख्या में युवक दरबार में जा रहे थे |

इसी रास्ते पर एक तरफ एक वृध्द हताश सा बैठा था | उसकी बैलगाड़ी का एक पहिया रास्ते के किनारे किचड़ में फंस गया था |

Image result for image of bulcart and boy cartoon

वृध्द ने कई बार पहिया किचड़ से निकलने की कोशिश की पर असफल रहा |

मंत्री पद के कई उम्मीदवार राजदरबार जाते समय यह दृश्य देखा था किन्तु किसी ने भी उसकी सहायता नहीं की |

उम्मीदवार युवकों में एक था कर्मवीर | कर्मवीर निर्धन परिवार का प्रतिभाशाली नवयुवक था |

वह तेजी से दरबार की ओर जा रहा था | उसी समय बैलगाड़ी वाला दृश्य दिखा | यह दृश्य देखकर दरबार पहुंचने की चिन्ता न करते हुए कर्मवीर सीधे कीचड़ में उतरा |

ज़ोर लगाकर उसने पहिया कीचड़ से निकाला वृध्द ने उस कर्मवीर को ढेरों आशीर्बाद दिए और इनाम में कुछ रूपये देना चाहा पर कर्मवीर ने विनम्रता से मना कर दिया |

देर हो जाने की आशका से भागते – दौरते कर्मवीर दरबार पहुँचा | वह हांफ रहा था | उसके कपड़े किचर से सने थे | सारे उम्मीदवार उसे देखकर हंसने लगे |

तभी बैलगाड़ी वाला वृध्द भी वहाँ पहुँचा | वह कोई ओर नहीं स्वयं मंत्री था |

उन्होंने सारी घटना राजा को सुनाई फिर कहा , “ महाराज ! कर्मवीर में वे सारे गुण हैं जो एक मंत्री में होने चाहिए |

सारी बातें जानकर महाराज मंगलसेन बहुत प्रसन्न हुए |

उन्होंने कहा , “ जो सामान्य आदमी की पीड़ा से दुखी होता है , उसे दूर करने का प्रयास करता है , और उनकी सहायता करता है , वही राज्य के ऊँचे पद पर बैठने का अधिकारी होता है | जगतराम ने योग्य व्यक्ती का चुनाव किया है | आज से कर्मवीर ही नए मंत्री होगे |

 

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *