Menu

मुंह पीछे बुराई

बीरवल से जलने वाले बहुत थे | एक बार किसी व्यक्ती ने चौराहे पर एक काजग चिपका दिया | उस में शुरू से अंत तक बीरबल को कोसा गया था | उस पर हर आने जाने वाले की नजर पड़ती थी |

बीरबल को जब इस बात का पता चला तो ,उह कुछ आदमियों को लेकर वहाँ पहुँच गया |

उसने देखा की वह कागज उँचाई पर था | जिससे पढने में दिक्कत हो ती थी | उसने कागज उतर कर थोरे निचे चिपका दिया

वहां पर काफी भीड़ एकत्रित थी | बीरबल ने उन सब से मुखातिब होते हुए कहा – यह कागज हम लोगों के बीच मध्यस्थ और भविष्य का एकरारनामा है | यह उँचाई पर था इस लिये मैंने इसको निचे चिपकवा दिया है ताकि सब लोग आसानी से पढ़ सकें | मैं अपने विपक्षियों को सुचना देता हूँ की मेरे साथ  अपनी मनमानी करें , मैं भी उनके साथ अपनी इच्छा से बैर लूँगा |

1 thought on “मुंह पीछे बुराई”

  1. Mauve says:

    Superbly ilailinmtung data here, thanks!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *