Menu

एक कड़वी सच्चाई

*नदी तालाब में नहाने में शर्म आती है,
और
स्विमिंग पूल में तैरने को फैशन कहते हैं.*
गरीब को एक रुपया दान नहीं कर सकते,
और
वेटर को टिप देने में गर्व महसूस करते हैं.
*माँ बाप को एक गिलास पानी भी नहीं दे सकते,
और
नेताओं को देखते ही वेटर बन जाते हैं.*
बड़ों के आगे सिर ढकने में प्रॉब्लम है,
लेकिन
धूल से बचने के लिए ‘ममी’ बनने को भी तैयार हैं.
*पंगत में बैठकर खाना दकियानूसी लगता है,
और
पार्टियों में खाने के लिए लाइन लगाना अच्छा लगता है.*
*बहन कुछ माँगे तो फिजूल खर्च लगता है,
और
गर्लफ्रेन्ड की डिमांड को अपना सौभाग्य समझते हैं.*
गरीब की  सब्ज़ियाँ खरीदने मे इन्सल्ट होती है,
और
शॉपिंग मॉल में अपनी जेब कटवाना गर्व की बात है.
*बाप के मरने पर सिर मुंडवाने में हिचकते हैं,
और
‘गजनी’ लुक के लिए हर महीने गंजे हो सकते हैं.*
कोई पंडित अगर चोटी रखे तो उसे एन्टीना कहते हैं.
और
शाहरुख के ‘डॉन’ लुक के दीवाने बने फिरते हैं.
.
*किसानों के द्वारा उगाया अनाज खाने लायक नहीं लगता,
और
उसी अनाज को पॉलिश कर के कम्पनियाँ बेचें, तो क्वालिटी नजर आने लगती है…॥*
ये सब मात्र अपसंस्कृति ही नही,
देश व समाज का दुर्भाग्य भी है ।
आपकी इच्छा हो तो शेयर करे।अन्यथा कोई कसम बंधन नही है।
वन्देमातरम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *