Latest Posts

श्री हनुमान चालीसा

श्री गुरु चरण सरोज रज, निज मन मुकुरु सुधारि।बरनऊँ रघुवर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि। 《अर्थ》→ गुरु महाराज के चरणकमलों की धूलि से अपने मन रुपी दर्पण को पवित्र करके श्री रघुवीर के निर्मल यश का वर्णन करता हूँ…
Read more

एक कड़वी सच्चाई

*नदी तालाब में नहाने में शर्म आती है, और स्विमिंग पूल में तैरने को फैशन कहते हैं.* गरीब को एक रुपया दान नहीं कर सकते, और वेटर को टिप देने में गर्व महसूस करते हैं. *माँ बाप को एक गिलास…
Read more

जीवन में हमेशा याद रखनी चाहिए

डॉ० एपीजे अब्दुल कलाम की चन्द लाईनें जो हमे जीवन में हमेशा याद रखनी चाहिए। और हो सके तो उसे अमल भी करना चाहिये। 1. जिदंगी मे कभी भी किसी को बेकार मत समझना,क्योक़ि बंद पडी घडी भी दिन में दो बार सही…
Read more

बिटिया 👧 अनमोल हीरा

मेहंदी रोली कंगन का सिँगार नही होता”’ रक्षा बँधन भईया दूज का त्योहार नहीं होता”” रह जाते है वो घर सूने आँगन बन कर”” जिस घर मे बेटियों का अवतार नहीं होता”’ जन्म देने के लिए माँ चाहिये, राखी बाँधने…
Read more

*पति-पत्नी* एक बनाया गया *रिश्ता*.

पहले कभी एक दूसरे को *देखा* भी नहीं था… अब सारी *जिंदगी* एक दूसरे के साथ।पहले *अपरिचित*, फिर धीरे धीरे होता *परिचय*। धीरे-धीरे होने वाला *स्पर्श*, फिर *नोकझोंक*….*झगड़े*…बोलचाल *बंद*। कभी *जिद*, कभी *अहम का भाव*………. फिर धीरे धीरे बनती जाती…
Read more

हिंदी चुटकुले

1)….टीचर: तुम कहां पैदा हुए थे? पप्पू: तिरुअनंतपुरम। टीचर: इसकी स्पेलिंग बताओ? पप्पू (थोड़ी देर सोचने के बाद): शायद गोवा में पैदा हुआ था। 2)…..पत्नी: खिड़की के परदे लगवा दो, नया पड़ोसी बार-बार घर में झांकता रहता है। मुझे देखने…
Read more

लक्ष्य के प्रमुख पड़ाव

लक्ष्य का निर्धारण बिना लक्ष्य निर्धारण के व्यक्ति इधर- उधर भागता रहता है | अगर आप  को यह पता नही है कि आप की मंजील क्या है? आप क्या प्राप्त करना चाहते हैं? आप की आकांक्षा क्या है तो आप…
Read more

Mother’s day special (अनपढ़ माँ की जिद्द ने बनाया आईएएस)

अहमदाबाद के प्रकाश कंवर को अपने अनपढ़ होने का मलाल था , लेकिन साधरण परिस्थित में गुजर बसर करते हुए आज अपनी बेटी डॉ. रतन कंवर को आईएएस बना देखकर वे गौरवान्वित है |   रतन कंवर ने पहले अपनी…
Read more

Mother’s day special( माँ, तो महान होती है )

एक बार की बात है | एक जंगल में आम का एक बरा पेड़ था | एक प्यारा बच्चा रोज उस पेड़ पर खेलने आया करता था | वह कभी पेड़ की डाली तोड़ता कभी आम तोड़ता और उचल कूद…
Read more

Mother’s day special ( माँ की ममता अनलोम )

    एक औरत थी, जो अंधी थी | जिसके कारण उसके बेटे को स्कुल में बच्चे चिढाते थे , कि अंधा का बेटा आ गया ! हर बात में उसे यह सुनने को मिलता था की यह अंधी का…
Read more